क्या आपको कभी लड़की होने का दुख हुआ है? यदि हां! तो ऐसी घटना का जिक्र करते हुए एक पत्र लिखें।


क्या आपको कभी लड़की होने का दुख हुआ है? यदि हां! तो ऐसी घटना का जिक्र करते हुए एक पत्र लिखें।

क्या आपको कभी लड़की होने का दुख हुआ है? यदि हां! तो ऐसी घटना का जिक्र करते हुए एक पत्र लिखें।


विकास नगर, रोड संख्या .05

पटना - 8000xx

20 सितंबर, 2020

मेरी प्रिय मनीषा
  मंगल कामना।

बहुत दिनों के बाद तुम्हारा पत्र मिला पत्र पढ़कर अत्यधिक प्रसन्नता हुई कि तुम आनंदित हो और परिवार में भी सभी कुशल मंगल है। प्रिय मनीषा, तुम तो यह बात अच्छी तरह से जानती हो कि मेरे माता-पिता पुराने ख्यालों और संकुचित विचारों वाले हैं। उनके विचारों के अनुसार उनका यह मानना है कि लड़कियों को लड़कों की तुलना में अधिक पढ़ना-लिखना नहीं चाहिए। घर में जरा सा ऊंची आवाज में बोल दिया या फिर हंसी मजाक कर दिया तो घर में तूफान मच जाता है।


मैं उस दिन की घटना भूल नहीं सकती! उस दिन के बारे में सोच कर मुझे आज भी मन अत्यधिक विचलित हो उठता है। उस दिन बहुत छोटी सी बात थी। उस दिन मेरा छोटा भाई स्कूल से आने के बाद खाना खाने में आनाकानी कर रहा था। वह इतना जिद्दी हो गया, कि किसी की बात नहीं मान रहा था। जब मैंने उसे हल्के से डांटा, तो फिर क्या था! मेरी मां मुझ पर ही बरस गई और और दो थप्पड़ की बरसात कर दिया। मैं दिन भर अकेली अपने कमरे में रोती रही। कोई खाना खाने तब पूछने वाला नहीं था कि कुछ खाया पिया है या फिर नहीं? शाम में जब पिताजी ऑफिस से घर आए तो मुझे प्यार से समझाया, तो मुझे राहत मिली। मेरे पिताजी मुझसे अवश्य प्यार करते हैं। रात के खाने के समय जब मैंने थोड़ी सी पनीर मांग लिया तो मुझ पर ढेर सारी बातों की बरसात आ गई। मेरी मां बार-बार यही रट लगा रही थी कि मेरा मुन्ना "राजा बेटा" है "बुढ़ापे का सहारा" है। बेटी तो सर की बोझ होती है। बेटी को तो घर छोड़कर एक दिन जाना ही है।


सच कहती हूं मनीषा उस दिन लड़की होने का मुझे सबसे भारी दुख हुआ। उस दिन मेरे मन में नकारात्मक विचार आने लगी, लेकिन पिताजी एवं परिवार की मान प्रतिष्ठा की बात सोचकर मैं पाप नहीं कर सकी। इस तरह की घटनाएं तो मेरे साथ रोज-रोज घटती है। मनीषा तुम ही बताओ? क्या लड़कियां सचमुच अपने माता पिता के साथ की बोझ होती है? क्या इस दुनिया में लड़कियों का कोई अस्तित्व नहीं है। खैर छोड़ो -----
          पूजनीय चाचा जी और पूजनीय चाची जी को मेरा सादर प्रणाम कहना।

तुम्हारी सहेली

आशा


{ पता }
विकास नगर, रोड संख्या .09
पटना - 8000xxxx (बिहार)


आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

एक टिप्पणी भेजें

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

Post a Comment (0)

और नया पुराने