कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग, उनके लक्षण तथा बचाव | Calcium Deficiency Diseases, Their Symptoms and Defenses.

कैल्शियम हमारे शरीर के लिए काफी आवश्यक तत्व है। इससे हमारे शरीर की हड्डियों का निर्माण होता है तथा शरीर में प्रोटीन तथा अन्य खनिज का निर्माण भी कैल्शियम के कारण ही होता है। शरीर के स्वस्थ और संतुलित विकास के लिए हर उम्र के लोगों को कैल्शियम की आवश्यकता होती है।

कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग, उनके लक्षण तथा बचाव |Calcium Deficiency Diseases, Their Symptoms and Defenses.


चाहे दांतों की मजबूती हो या फिर शरीर के किसी अन्य हड्डियों की मजबूती इन सभी का विकास कैल्शियम के बिना संभव नहीं है। कई बार असंतुलित भोजन तथा दैनिक दिनचर्या के बिगड़ने के कारण शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाती है। जिससे हमारे शरीर की हड्डियां कमजोर होकर टूटने लगती है।

कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग, उनके लक्षण तथा बचाव | Calcium Deficiency Diseases, Their Symptoms and Defenses.

कैल्शियम की कमी के कारण बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। आज के इस लेख में हम कैल्शियम की कमी के कुछ दुष्परिणाम के बारे में जानेंगे और वैसे खाद्य पदार्थों के बारे में भी जानेंगे जो कैल्शियम की कमी को दूर कर आपको कैल्शियम की कमी से होने वाले बीमारियों से दूर करता है।


कैल्शियम की कमी के कारण होने वाले दुष्परिणाम
Side Effects of Calcium Deficiency


Bone Stroke : हड्डियों का टुटना


कैल्शियम शरीर के हड्डियों के निर्माण का सबसे महत्वपूर्ण घटक है। इसकी कमी के कारण हमारे शरीर की कई महत्वपूर्ण हड्डियां असमय टूट जाती है तथा कई बार हल्की सी चोट लगने पर भी इसमें फ्रैक्चर हो जाता है। हड्डियों के टूटना के कारण रोगी को ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी भी हो सकती है। आमतौर पर पुरुषों के मुकाबले यह बीमारी महिलाओं में अधिक मात्रा में देखी जाती है।

Toothache : दांतों में परेशानी उत्पन्न होना


हमारे दांतो का पीला होना तथा और असमय टूट कर गिर जाना कैल्शियम की कमी के कारण हीं होता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होना


कैल्शियम की अत्यधिक कमी के कारण पाचन क्रिया में भी कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। यदि रोगी के शरीर में कैल्शियम की अत्यधिक कमी है तो ऐसी स्थिति में उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी कमी देखी जाती है। जिससे शरीर में कई तरह के अन्य रोग होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

Deficiency of Nail Clotting and Blood Circulation : नाखुन का टुटना तथा रक्त संचरण में कमी होना


कैल्शियम की कमी के कारण नाखून भुरभुरा और कमजोर हो जाता है। साथ ही साथ इस की कमी से रक्त संचरण में भी कमी हो जाती है। रक्त संचरण में भी कमी के कारण दिल की धड़कन का बढ़ना तथा बेचैनी जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है। सही समय पर इसका इलाज ना होने से मरीज को हार्ट अटैक होने का खतरा बढ़ जाता है।

Some Easy Ways to Avoid Calcium Deficiency : कैल्शियम की कमी से बचने के कुछ आसान उपाय


कैल्शियम की कमी से होने वाली बीमारियां तथा आप उसके नुकसान के बारे में तो आप जान चुके हैं। अब मैं आपको कैल्शियम की कमी से बचने के कुछ आसान उपाय बताऊंगा जो कि आपके बीमारियों को दूर करने में काफी मददगार साबित होगी।

Milk Intake : दूध का करें सेवन


यदि आपके शरीर में कैल्शियम की कमी है तो आपको भारी मात्रा में दूध का सेवन करना चाहिए। क्योंकि दुग्ध पदार्थ में कैल्शियम प्रमुख रूप से पाया जाता है। प्रतिदिन दूध के सेवन से आपके शरीर में कैल्शियम की मात्रा नियंत्रित होगी। इसकी लगातार सेवन से आपकी हड्डियां भी मजबूत होगी तथा आपके दांतों का पीलापन भी दूर हो जाएगा।

Use Calcium Tablet :कैल्शियम की गोली का करें इस्तेमाल


यदि आपके शरीर की हड्डियां बेहद कमजोर हो रही हैं और धीरे-धीरे टूट रही हैं। तब आप किसी डॉक्टर की सहायता से कैल्शियम की गोली का इस्तेमाल करना शुरू कर दे। डॉक्टर के द्वारा बताए गए गोली का नियमित रूप से सेवन करने पर आपकी यह समस्या खत्म हो जाएगी।

Eat Green vegetables :हरी सब्जियों का करे सेवन


वैसे तो हरी सब्जियों में विटामिन भरपूर मात्रा में पाई जाती है परंतु हरी सब्जियां कैल्शियम रोगी के लिए भी काफी आवश्यक है हरी सब्जियां जैसे अरबी पालक मेथी फूल गोभी शलगम टमाटर काकडी गाजर भिंडी तथा कद्दू आदि के नियमित इस्तेमाल से कैल्शियम रोगी को बहुत फायदा होगा तथा उनके रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होगी हरी सब्जियों में कैल्शियम विटामिन के अलावे कई तरह के मिनरल्स और आयरन भी पाए जाते हैं।

Grain Intake : अनाज का करे सेवन


कैल्शियम की समस्या से परेशान रोगी गेहूं, बाजरा, मूंग, मोठ, चना, राजमा और सोयाबीन जैसे मोटे अनाज का सेवन कर अपनी समस्या दूर कर सकते हैं। इन अनाज के सेवन से कैल्शियम की परेशानी से जूझ रहे रोगियों को संतुलित रूप में कैल्शियम के साथ साथ अतिरिक्त खनिज पदार्थ भी प्राप्त होंगे।

Fruit Intake : फलों का करे सेवन


कैल्शियम रोगी पपीता, संतरा, लीची, अनानास, चेरी तथा कीवी जैसे फलों के नियमित इस्तेमाल से कैल्शियम की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। इन फलों में अनेक विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं।

ध्यान दें : अगर आप कैल्शियम की समस्या से बहुत परेशान हैं तो आप किसी अच्छे से डॉक्टर को दिखाकर ही कैल्शियम की गोलियां ले।

यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले। इसी तरह की और भी लेख पढ़ने के लिए Howtosawal.Com के साथ बने रहे इस पर और भी अच्छे-अच्छे कंटेंट आना बाकी है। साथ ही साथ हमारे नए लेख की जानकारी अपने फोन पर पाने के लिए आप हमारी वेबसाइट को ईमेल आईडी के माध्यम से सब्सक्राइब कर ले । जिससे हमारे नए लेख डालते ही आपके फोन पर नोटिफिकेशन चला जाए। धन्यवाद!

2 टिप्पणियाँ

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

एक टिप्पणी भेजें

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

Post a Comment

और नया पुराने