तुलसी के चमत्कारी फायदे - तुलसी के प्रकार, एवं फायदे।

नमस्कार दोस्तों! स्वागत है आपका आज के हमारे इस नए लेख में, दोस्तों आज हम एक ऐसे पौधे के बारे में बात करने जा रहे हैं। जिसका जिक्र आपने कई बार दादी मां के नुस्खे (Dadi Maa Ke Nuskhe In Hindi) में इस्तेमाल होते जरूर सुना होगा। जी हां! आज हम बात करेंगे तुलसी के पौधे की चमत्कारी फायदों (Tulsi Ke Fayde In Hindi) के बारे में और हम यह भी जानेंगे कि चमत्कारी तुलसी के पौधे के कितने प्रकार होते हैं? (Tulsi Ke Kitne Prakar Hote Hain) तुलसी के उपयोग से किन-किन बीमारियों से बचा जा सकता है?

Tulsi Ke Paudhe Ke Fayde | Tulsi Ke Patte Ke Fayde | Tulsi Dwara Gharelu Upchar


इसमें कोई चौंकाने वाली बात नहीं है, कि तुलसी के पौधे के बारे हम चमत्कारी शब्द का उपयोग कर रहे हैं। चमत्कारी कहने के पीछे हमारा सिर्फ एक ही उद्देश्य है कि इसने कई सारे लाभकारी गुण होते हैं। जो हमारे कई सारे घरेलू बीमारियों तथा समस्याओं को खत्म कर हमारी सेहत को तंदुरुस्त बनती है।

Tulsi Ke Paudhe Ke Fayde | Tulsi Ke Patte Ke Fayde | Tulsi Dwara Gharelu Upchar | Tulsi Ke Anokhe Fayde


यदि आप अभी तक तुलसी के पौधों के चमत्कारी लाभ या फायदों के बारे में नहीं जानते हैं तो आपको यह लेख शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़ना चाहिए। क्योंकि यह लेख उन सभी लोगों के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है, जो अक्सर सामान्य बीमारियों की चपेट में आते रहते हैं।


तो चलिए तुलसी के चमत्कारी फायदों को शुरू से समझने की कोशिश करते हैं।


वर्तमान समय में इंसानों की जीवन शैली कई तरह की बीमारियों के कारण प्रभावित हो रही है। लेकिन आपको यह जानकर बेहद हैरानी होगी कि इन बीमारियों का निदान, हमारे घर के आंगन में मौजूद तुलसी के पौधों में हो सकती है। तुलसी पौधे के पत्तों का सही तथा लगातार इस्तेमाल से हम कई सारी बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन इसी के साथ-साथ तुलसी के पौधे से हिंदू धर्म के मान्यताओं के अनुसार इसमें कई सारे आध्यात्मिक और धार्मिक बातें जुड़ी हुई है।


उदाहरण के तौर पर ;

  • तुलसी के पौधों को महालक्ष्मी जी का प्रतीक माना जाता है।
  • भगवान विष्णु जी की पूजा में तुलसी के पत्तों के बिना प्रसाद नहीं चढ़ाया जाता है।
  • तुलसी के पौधों के सामने प्रतिदिन शाम को दीप जलाने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है तथा घर में नकारात्मक ऊर्जा को प्रवेश नहीं करने देती है।


मान्यताओं की माने तो कहा जाता है कि, सूर्यास्त होने के बाद यानी शाम होने पर तुलसी के पत्तियों को नहीं तोड़ना चाहिए, क्योंकि ऐसा करना हिंदू धर्म में अशुभ माना जाता है। इन सबके अलावा इनसे और भी कई सारी अवधारणाएं जुड़ी हुई है।


Tag ; तुलसी के पत्तों के फायदे तुलसी के चमत्कारी फायदे, तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल कब करें, तुलसी के पत्ते के घरेलू नुस्खे  तुलसी के पत्ते के औषधीय गुण क्या हैं।


तो अभी हमने देखा कि तुलसी के पौधे को कई सारे धार्मिक मान्यताएं हैं। लेकिन तुलसी के पौधे को सेहत के लिए भी वरदान माना जाता है, क्योंकि तुलसी के पत्तियों में कई बीमारियों से लड़ने के गुण पाए जाते हैं।


Tulsi Ke Paudhe Ke Prakar | Tulsi Ke Paudhe Kitne Prakar Ke Hote Hain


इस अनमोल तथा चमत्कारी तुलसी के पौधे के पांच प्रकार होते हैं। इसके निम्नलिखित प्रकार हैं।


  • राम तुलसी 
  • श्याम तुलसी 
  • विष्णु तुलसी 
  • बन तुलसी 
  • नींबू तुलसी


तुलसी के फायदे | तुलसी की पत्तियों के फायदे | तुलसी के घरेलू नुस्खे | तुलसी के अनोखे फायदे।


तुलसी के पत्तियों का इस्तेमाल दवा की तरह किया का सकता है। घर में तुलसी के पौधे की मौजूदगी में आसपास छोटे-छोटे कीड़े मकोड़े या मच्छर नहीं आते हैं। प्रतिदिन तुलसी के पत्ते के सेवन करने से सेहत अच्छा बना रहता है और बीमारियों से लड़ने में Immune System को मजबूत बनाता है। तुलसी के पत्ते के लगातार सेवन से शरीर में उपस्थित अशुद्ध रक्त को शुद्ध करके त्वचा एवं बालों को स्वस्थ बनाते हैं।


तुलसी के पौधे की पत्तियों तथा फूलों में कई तरह के रसायनिक तत्व पाए जाते हैं। जो अनेक प्रकार की शारीरिक रोग और समस्याओं से लड़ने की ताकत देती है। तुलसी के पौधे स्किन (Skin Problem) से जुड़ी हुई समस्याओं जैसे कि Skin Infection को ठीक करने के लिए कारगर उपाय साबित होती है।


तुलसी के पौधों में Antibiotic गुण पाए जाते हैं, जो कि Infection को कम करने में मददगार साबित होती है। अगर किसी भी व्यक्ति को स्किन से जुड़ी हुई समस्याएं हैं, तो तुलसी के पत्ते तथा बेसन का पेस्ट बनाकर स्किन पर लगाने से स्किन से जुड़ी समस्याएं खत्म हो जाती है। तुलसी के पत्ते सामान्यता सर्दी एवं जुखाम जैसी समस्याओं के लिए रामबाण औषधि की तरह कार्य करती है।


वैज्ञानिकों द्वारा अध्ययन के द्वारा यह पता चला कि तुलसी के पत्तों के सेवन से मानसिक असंतुलन को ठीक किया जा सकता है, क्योंकि तुलसी के पत्तों में Anti Stress Agent पाए जाते हैं।


  • तुलसी के पौधे के बीज शरीर के एंटी-ऑक्सीडेंट (Antioxidant) गतिविधियों को बढ़ा देता है। जिससे कैंसर के इलाज में औषधि की तरह कार्य करता है। यह कैंसर वाले कोशिकाओं को बढ़ने या फैलने से रोकता है।
  • तुलसी की पत्तियों की सहायता से पेट में जलन या पेट दर्द की समस्या को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। तुलसी के पत्ते के सेवन से किडनी स्वस्थ तरीके से काम करता है। जिससे मूत्र संबंधी समस्याएं नहीं होती है।
  • तुलसी किडनी को सुचारू एवं स्वास्थ्य रूप से कार्य करने में मदद करता है। इसके सेवन से किडनी साफ रहती है तथा किडनी में मौजूद Stone को भी तुलसी की सहायता से निकाला जा सकता है। इसके लिए तुलसी के ताजा रस को शहद में मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से किडनी के Stone मूत्र मार्ग द्वारा बाहर निकल आते हैं।

इसलिए हम कह सकते हैं कि तुलसी हमारे लिए एक सुरक्षा कवच की तरह कार्य करता है।


  • तुलसी के ताजे पत्तों का सेवन प्रतिदिन सुबह खाने से शरीर की Immune System (प्रतिरक्षा तंत्र) मजबूत होती है। जिनसे हमारे शरीर को कई तरह के Infection से लड़ने के लिए महत्वपूर्ण Antibody के उत्पादन में वृद्धि हो जाती है।
  • तुलसी के पत्ते मुंह की दुर्गंध को दूर करने के लिए भी इस्तेमाल में लाया जाता है तथा यह काफी फायदेमंद होता है। इसलिए हम इससे एक Natural Mouth Freshener का नाम दे सकते हैं। यदि किसी व्यक्ति के मुंह से दुर्गंध आती है तो उसे तुलसी के पत्ते को पानी में उबालकर तथा उस पानी को ठंडा करके कुल्ला करने से मुंह की दुर्गंध चली जाती है।
  • तुलसी के पत्तों की मदद से हम अपने चेहरे की स्किन को कील मुहांसों बचा सकते हैं तथा अपनी त्वचा को सुंदर और स्वस्थ बना सकते हैं। तुलसी में Antioxidant तथा Antibacterial एवं Antibiotic गुण मौजूद होते हैं। जिसके कारण स्क्रीन में उत्पन्न होने वाली हर समस्या का समाधान इनसे किया जा सकता है।
  • तुलसी के पत्तों का रस वजन कम (Weight Loss) करने के लिए भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है, तथा यह बेहद फायदेमंद होता है। तुलसी के पत्तों का रस रोजाना इस्तेमाल करने से इसमें आपको बेहद चौंकाने वाले फायदे नजर आएंगे। रोजाना इसके सेवन से हार्ट अटैक (Heart Attack) की आशंका भी कम हो जाती है।
  • तुलसी के पत्तों का सेवन चाय की तरह भी किया जाता है। यह चाय सर्दी - जुकाम आदि में काफी ज्यादा आरामदायक होती है। इनके सेवन से सर्दी जुखाम जल्द खत्म हो जाते हैं।
  • पाचन तंत्र मजबूत करने में भी तुलसी एक कारगर उपाय है। तुलसी के साथ काली मिर्च का सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है।
  • लिवर की समस्या होने पर प्रतिदिन सुबह तुलसी के पत्तों को पानी में उबालकर पीने से फायदा मिलता है।


निष्कर्ष :  हम यह कह सकते हैं कि तुलसी के पत्तों में चमत्कारी फायदे का भंडार है। इसकी मदद से हम सामान्य रूप से होने वाले सर्दी - जुखाम या फिर अन्य बीमारी जो सामान्यत: हर किसी व्यक्ति में देखे जाते हैं। उन सभी बीमारियों को आसानी से दूर किया जा सकता है। हमने ऊपर में दिए गए निम्नलिखित बिंदुओं में भी जाना कि तुलसी के पत्ते और किस-किस तरह से हमारे लिए फायदेमंद है।


नोट : ऊपर दिए गए बिंदुओं का असर या फायदा आपके तभी दिखेगा जब आप तुलसी के पत्तों का सेवन नियमित रूप से करेंगे।


तो दोस्तों आज के लेख में हमने जाना तुलसी के पत्तों के चमत्कारी फायदों (Tulsi Ke Chamatkari Fayde) के बारे में और हमने यह भी जाना कि तुलसी के पत्ते के इस्तेमाल से हम किन-किन बीमारियों को आसानी से घर पर ही दूर कर सकते हैं।

यदि आपको यह लेख पसंद आया तो अपने परिवार के सदस्य एवं अपने मित्रों को इसे जरूर भेजें। ताकि वह भी चमत्कारी तुलसी के फायदों के बारे में जान सकें तथा इनका लाभ उठा सकें! धन्यवाद!

आप नीचे दिए गए WhatsApp Share Buttonद्वारा आप इस लेख को लोगों के साथ साझा कर सकते हैं। इसी तरह की और भी लेख पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को बुकमार्क जरूर करें।


आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

Post a Comment

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post