अधजल गगरी छलकत जाए - मुहावरे का अर्थ, वाक्य प्रयोग - "अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे/लोकोक्ति का अर्थ

नमस्ते! आपने "अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे या कहावतें (Adhjal Gagri Chalkat Jaye Muhawere) के बारे में जरूर सुना होगा और मैं उम्मीद करता हूं कि आपको यह भली-भांति पता होगा कि "अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे का अर्थ (Adhjal Gagri Chalkat Jaye Muhawere Ka Arth) क्या होता है? लेकिन फिर भी, यदि आपको इस कहावत या मुहावरे के अर्थ के बारे में नहीं पता है, तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके "अधजल गगरी छलकत जाए कहावत के अर्थ" को समझ सकते हैं। हमने इस लेख में काफी अच्छी तरीके से बताया है कि "अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे का अर्थ क्या होता है?

अधजल गगरी छलकत जाए मुहावरे/लोकोक्ति का वाक्य प्रयोग, adhjal gagri chalkat jaye meaning, adhjal gagri jaye meaning and sentence, "अधजल गगरी छलकत जाए"

इन्हें भी पढ़ें :

कई सारे विद्यार्थी जो इस मुहावरे को बेहतर तरीके से समझना चाहते हैं। वे इंटरनेट पर काफी ज्यादा सर्च कर रह कि "अधजल गगरी छलकत जाए मुहावरे का वाक्य कैसे बनाएं" या "अधजल गगरी छलकत जाए मुहावरे का वाक्य" क्या होता है! Adhjal Gagri Chalkat Jaye Muhawere Ka Wakya Prayog

इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना, मैं विद्यार्थियों की इस समस्या का समाधान करने की कोशिश करूं। इसलिए इस लेख में मैं आपको "अधजल गगरी छलकत जाए मुहावरे का वाक्य" वाक्य के बारे में जानकारी देने का प्रयास कर रहा हूं।

सबसे पहले हम "अधजल गगरी छलकत जाए मुहावरे का अर्थ" समझ लेते हैं, ताकि हमें वाक्यों को बनाने में आसानी हो।

"अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे/लोकोक्ति का अर्थ!


वैसा व्यक्ति जिसमें ज्ञान/बुद्धि कम होता है, लेकिन फिर भी वह अपने ज्ञान का अधिक दिखावा करता है या बढ़ा - चढ़ा कर बातें करता है।

आप व्यक्ति के ज्ञान के अलावा भी अन्य चीजों पर गौर कर सकते हैं और ऐसे इंसान को पहचान सकते हैं - ऐसे इंसान में किसी भी बात को बढ़ा - चढ़ा कर बातें करने की आदत होती है। जिससे कई बार उन्हें शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है।

"अधजल गगरी छलकत जाए मुहावरे/लोकोक्ति का वाक्य प्रयोग" - Adhjal Gagri Chalkat Jaye Muhawere Ka Wakya Prayog


वाक्य प्रयोग – सोहन केवल सातवी कक्षा पास है, लेकिन अध्यापक महोदय के सामने बढ़ - चढ़ के बात कर रहा था। इसे ही कहते हैं कि अधजल गगरी छलकत जाये।

वाक्य प्रयोग – सुरेश तो सिर्फ एक सामान्य बच्चों की तरह ही क्रिकेट खेलता है और बातें ऐसी करता है कि सचिन तेंदुलकर भी उसके सामने कुछ नहीं है।

वाक्य प्रयोग – विशाल हर बार 100 अंकों में से सिर्फ 40 अंक प्राप्त करता है, लेकिन ग्रुप में ऐसे बढ़ - चढ़ कर बोलता है कि उससे अधिक अंक लाने वाला कोई न हो!

वाक्य प्रयोग – राजेश एक अंग्रेजी विषय का शिक्षक है लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि अंग्रेजी के प्रोफेसर के सामने बढ़ - चढ़ कर बातें करें।

तो बच्चों ये कुछ वाक्य है। जिसे आप "अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे या लोकोक्तियां के बारे में लिख सकते हैं। आप चाहे तो इस तरह की कई सारे वाक्य बना सकते हैं। 

आप हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्वाइन जरूर करें। जिनसे हमारे द्वारा डाली गई नई लेख की जानकारी आपको मिल सके।

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

एक टिप्पणी भेजें

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

Post a Comment (0)

और नया पुराने