"अधजल गगरी छलकत जाए" मुहावरे का अर्थ क्या है? "अधजल गगरी छलकत जाए" कहावत का अर्थ क्या होता है

Adhjal gagri chalkat Jaye kahavat ka Arth kya hai

"अधजल गगरी छलकत जाए" इस कहावत को आपने कई बार सुना होगा या फिर अपने किताबों में पढ़ा होगा। लेकिन मेरा यह सवाल है कि क्या आपको इस कहावत का अर्थ पता है? यदि नहीं! तो कोई बात नहीं! क्योंकि इस लेख में आप "अधजल गगरी छलकत जाए" कहावत का अर्थ समझ जाएंगे। साथ ही साथ मैं आपको इस कहावत की भावार्थ की उदाहरण भी आपको बताऊंगा, ताकि आप इसे और भी अच्छी तरीके से समझ पाए।

"अधजल गगरी छलकत जाए" कहावत का अर्थ क्या है | "अधजल गगरी छलकत जाय" कहावत का भावार्थ क्या है?


चलिए इसे समझने की कोशिश करते हैं! "अधजल गगरी छलकत जाए" का अर्थ है - " जिनका ज्ञान अधूरा होता है वही पूर्ण ज्ञानी होने का ढोंग करता है। अर्थात जो अल्पज्ञ है वही पूर्णज्ञ होने का दावा करता है। जल से भरा हुआ एक घड़ा, छलकता नहीं है आधा भरा हुआ घड़ा ही छलकता है। जिसमें पूर्णत्व होता है वह अपनी पूर्णता का ढोल कभी नहीं पीटता है, बल्कि लोग स्वयं ही उसकी पूर्णत्व का लोहा मानने लगते हैं। इस कहावत यानी "अधजल गगरी छलकत जाए" कहावत के समक्ष आमतौर पर है यह भी कहावत कहा जाता है - 'थोथा चना बाजे घना'। इस कहावत का अर्थ भी आप ऊपर बताए गए अर्थ से समझ सकते हैं।



इसे भी पढ़ें :

अल्पज्ञ कभी विनयशील हो नहीं सकता है। इस दोष में उसकी कोई भी गलती नहीं है बल्कि दोस्त उनकी अल्पज्ञता होता है। ज्ञान का भंडार बहुत विशाल होता है। आज शेक्सपियर जैसे महान विद्वान को कौन नहीं जानता है। उन्हें यह कहना पड़ा था कि "ज्ञान के विशाल सागर के किनारे बैठ कर मैं सिर्फ कंकर ही चुनता रह गया, उस में गोते नहीं लगा सका।" इस वाक्य से हम भलीभांति समझ सकते हैं कि विद्वान अपनी विद्वता का प्रदर्शन कभी भी नहीं करता है। उसका प्रदर्शन से वही करते हैं जो शुद्रबुद्धि के होते हैं। विशाल सागर में बाढ़ कभी भी नहीं आती है लेकिन, थोड़े जल की वृद्धि से छोटी-छोटी नदियां उठने लगती है। इसलिए कहा गया है कि "अधजल गगरी छलकत जाए"


तो दोस्तों इस लेख में बताई गई जानकारी आपको कैसी लगी! इस बारे में आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। आपकी सराहना या फिर आपके महत्वपूर्ण सुझाव हमें और भी अच्छी-अच्छी जानकारियों को आपके तक साझा करने के लिए प्रेरित करती है। इसलिए आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपने विचार को प्रकट जरूर करें। alert-info


यदि आप अपने द्वारा लिखी गई लेख को हमारी वेबसाइट पर प्रकाशित करवाना चाहते हैं तो आप नीचे कॉन्टैक्ट फॉर्म में उपयुक्त जानकारी भरकर हमें जरूर भेजें। हम आपके द्वारा लिखे गए लेख को अपनी वेबसाइट पर जरूर प्रकाशित करेंगे। जिसमें आपकी तस्वीर आपका नाम और अन्य जानकारी शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ें :
  • "हृदय से लगाना" मुहावरे का अर्थ क्या है?
  • मुहावरे के अर्थ, वाक्य एवं विशेषताएं {800+}
  • 'अ' से शुरू होने वाले मुहावरे एवं उनके अर्थ?
  • 'क' से शुरू होने वाले मुहावरे एवं उनके अर्थ?
  • 'च' से शुरू होने वाले मुहावरे एवं उनके अर्थ?

contact-form

साथ ही साथ हमने अपने सहयोगी मित्र के साथ एक यूट्यूब चैनल बनाया है। जहां पर हम महत्वपूर्ण जानकारियों से संबंधित वीडियोस डालते हैं जिससे आप काफी कुछ सीख सकते हैं। आप नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके आप यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें ताकि आप हमसे जुड़ सके।

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

एक टिप्पणी भेजें

आप हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें और यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। Telegram, Youtube

Post a Comment (0)

और नया पुराने